राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान के बारे मे

1979 में केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के तहत "ओपन स्कूलिंग" पर एक परियोजना के रूप में शुरू किया गया। राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान (एनआईओएसपूर्वत: राष्ट्रीय मुक्त विद्यालय (रा.मु.वि.) की स्थापना राष्ट्रीय शिक्षा नीति 1986 का अनुपालन करते हुए, मानव संसाधन विकास मंत्रालय (मा.सं.वि.मं), भारत सरकार द्वारा नवंबर, 1989 में की गई । भारत के मंत्रालय, मानव संसाधन विकास (एमएचआरडी) द्वारा 1990 मे सरकार के अन्तर्गत ओपन स्कूल निहित एक गजट अधिसूचना के माध्यम से भारत मे पूर्व डिग्री स्तर के पाठ्यक्रमों मे पंजीकृत शिक्षार्थियों को प्रमाणित शिक्षार्थ करने के लिए शुरू किया गया। इसे जुलाई 2002 में राष्ट्रीय मुक्त विद्यालय संस्थान (एनआईओएस) के रूप में पुन: नामाकरण किया गया। राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान (एनआईओएस) के 20 अन्य क्षेत्रीय केंद्रो मे पटना एक प्रतिष्ठित केन्द्र है।

विजन : "गुणवत्तापूर्ण स्कूली शिक्षा और कौशल विकास के लिए सार्वभौमिक और सुविधापूर्ण अवसर के साथ सशक्त समावेशी शिक्षा प्रदान करना।"

मिशन : 1. मुक्त और दूरस्थ शिक्षा प्रणाली द्वारा पूर्व-स्नातक स्तर के प्रासंगिक, सतत और समन्वयात्मक शिक्षा प्रदान करना । 2. विद्यालयी शिक्षा के सार्वभौमिकीकरण में योगदान देना । 3. समता और सामाजिक न्याय के लिए प्राथमिकता प्राप्त लक्ष्य समूहों की शिक्षा संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करना ।